जनपद बाँदा के शहर कोतवाली अंतर्गत क्योटरा इलाके में रेलवे क्रासिंग के अंडर ब्रिज की सड़क लगभग दो साल से लोंगो की जान को दावत दे रही थी।

लगभग दो करोड़ की लागत से बना अंडर ब्रिज और उसकी सड़क भ्रस्टाचार की भेंट चढ़ चुकी थी। सड़क के बड़े-बड़े गड्ढे और उसमें निकली हुई नुकीली जानलेवा सरिया लगातार राहगीरों को चोटिल और घायल कर रही थी।

लोग गिर रहे थे घायल हो रहे थे और मन ही मन सिस्टम को कोस रहे थे। ठेकेदार और सिस्टम के लालची हांथो से बनी ये सड़क चीख चीख कर अपनी बर्बरता की दास्तां बता रही थी।

पर जिम्मेदार अधिकारियों से लेकर माननीय तक यहां से गुजरते रहे और किसी को सड़क की दुर्दशा नजर नही आई

नीचे से ऊपर तक कई बार शिकायत की गई पत्र लिखे गए, पर सिस्टम के सभी ठेकेदारों ने आंख और कान में पट्टी बांध ली

न दो सालों में कई सिस्टम के ठेकेदार आए और चले गए लेकिन जनता की सेवा की कसम खाने वाले ये लालची लोग नोटों की गड्डी खाकर डकार तक नही ली

वंही जब नगरपालिका के अध्यक्ष मोहन साहू ने इस सड़क को दुरुस्त करने का जिम्मा उठाया । पीडब्लूडी विभाग के अधिकारी आ गए और उस सड़क का टेंडर पास होने बात कहकर कार्य रुकवाने लगे। अब चूंकि सड़क दुरुस्त कराने का सारा सामान आ चुका था और लगभग सड़क आधी कंप्लीट हो चुकी थी तो अध्यक्ष मोहन साहू भी कंहा पीछे हटने वाले थे।

पीडब्लूडी के अधिकारी ने अपनी बात समझाते हुए बताया कि बुंदेलखंड परियोजना के तहत इस सड़क का टेंडर पास हो चुका है। आप अपना पैसा बर्बाद न करे पीडब्लूडी जल्द ही नइ सड़क का निर्माण करा देगा। अध्यक्ष मोहन साहू का पैसा लग चुका था तो काम रुकवाने का कोई मतलब ही नही बनता।

 

About Author

admin

You cannot copy content of this page