मध्यप्रदेश के छतरपुर में यूपी-एमपी की सरहद पर सक्रिय रुद्र पटेल मौरम का वैध,अवैध कारोबार करता हैं।

छतरपुर आदि थानों में रुद्र पटेल पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं।

यूपी के ज़िला बाँदा में नरैनी चेक पोस्ट पर भी बीती रात ओवरलोड ट्रक पकड़े गए है।

सूचना मिलने पर नरैनी कोतवाली क्षेत्र से निकल रहे ट्रक की पकड़ में मौके पर नरैनी पुलिस नहीं पहुंची।

आरटीओ ने पकड़े ट्रक तो ड्राइवर से झड़प होने लगी।

मध्यप्रदेश छतरपुर की सीमा पर लगे परेई मौरम घाट पर रुद्र पटेल व यूपी क्षेत्र में राजाभैया प्रजापति बाँदा के एक विधायक के साथ मिलकर अवैध खनन में शामिल है।

Raids on the dump of Rudra Patel in Lavkushnagar and Chandla of Chhatarpur

बाँदा। एमपी- यूपी बुंदेलखंड क्षेत्र में बारिश की बन्दी में भी मौरम घाट संचालित हो रहे है। बाधित अवधि में बाँदा व छतरपुर में बेधड़क अवैध खनन हो रहा है। गौरतलब हैं कि बीते 21 जुलाई नरैनी में चेक पोस्ट पर आरटीओ ने ओवरलोड ट्रक पकड़े है। बड़ी बात है कि सूचना मिलने पर हल्के की पुलिस नहीं पहुंची। सूत्रों की माने तो एक हजार से 1500 रुपया ट्रक निकासी का लिया जाता हैं। मध्यप्रदेश व यूपी की सरहद पर सक्रिय मौरम माफिया मसलन परेई घाट में रुद्र पटेल व यूपी में राजाभैया प्रजापति आदि सफेदपोश विधायक की छत्रछाया में अवैध खनन करवाते है। मध्यप्रदेश के सूत्रधार ने बताया कि रुद्र पटेल वही व्यक्ति हैं जिन्होंने कभी तिंदवारी से पूर्व विधायक दलजीत सिंह के लोगों और फायरिंग की थी।

Raids on the dump of Rudra Patel in Lavkushnagar and Chandla of Chhatarpur

रुद्र पटेल के लवकुशनगर व चंदला अड्डों पर छापा
मध्यप्रदेश पुलिस ने आज लावलश्कर के साथ छतरपुर के लवकुशनगर व चंदला में रुद्र पटेल के अड्डों पर छापेमारी की हैं। पुलिस ने बाकायदा डीजे साउंड के माइक से एलाउंस करते हुए मुनादी / कुर्की करने की तर्ज पर रुद्र पटेल को अंतिम चेतावनी दी हैं। स्थानीय एमपी पुलिस ने रुद्र पटेल को छतरपुर में अवैध खनन व आपराधिक गतिविधियों के संचालन पर नियंत्रण रखने की चेतावनी दी हैं। मौरम डम्प स्थल पहुंची पुलिस ने इस बालू माफिया व उसके गिरोह को सुधरने की हिदायत देते हुए कहा कि भविष्य में कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

उल्लेखनीय हैं कि बाँदा आसपास क्षेत्र में भी कनवारा, आच्छरौड़ व पैलानी और बेंदा क्षेत्र पर डंप की आड़ में मौरम का अवैध कारोबार चल रहा है। केन नदी बारिश की बाधित अवधि में भी बालू लुटेरों का गढ़ बनी हैं। वहीं अक्टूबर माह से खनन शुरू होना हैं। इधर कमजोर मानसून से नदी में मौरम आने के आसार बेहद कम है। फिलहाल वक्त अवैध खनन यूपी व एमपी की सरकार में एक तरह जोरों पर हैं।

रिपोर्ट@आशीष सागर दीक्षित

About Author

admin

You cannot copy content of this page