हमीरपुर। एक तरफ सरकार स्वच्छ भारत मिशन में लाखों खर्च कर रही है ताकि गांव को स्वच्छ बनाया जा सके,मगर फिर क्या जब रूपये भी खर्च हो जाये और ग्रामीण उसका प्रयोग भी न कर पाये।

जिले के मुस्करा विकासखंड क्षेत्र के चिल्ली गांव में सार्वजनिक शौचालय का यही हाल है जो ग्रामीणों के लिए सफेद हांंथी साबित हो रहा है।कागजों में इस सामुदायिक शौचालय का निर्माण कार्य तो हो गया और प्रशासन को शौचालय निर्माण कार्य पूर्ण भी दिखा दिया गया मगर इसमें सोख्ता वाले सीवर (गड्ढों)को आज तक कवर नहीं किया गया है।

Hamirpur Due to the neglect of the responsibilities the construction work of community toilet hangs on the balance

आलम यह है कि प्रशासन द्वारा स्वीकृत करीब साढ़े पाँच लाख रूपये तो खर्च हो गये है और शौचालय कम्पलीट दिखाकर ग्राम प्रधान व सचिव ने बचा कुचा पैसा भी हजम कर लिया और तो और 27 हजार रू समूह की महिलाओं को भी दिये जा चुके है मगर आज भी ग्रामीणों के लिए यह शौचालय किसी काम का नहीं है और होगा भी कैसे जब सीवर टैंक कम्पलीट नहीं है।

Hamirpur Due to the neglect of the responsibilities the construction work of community toilet hangs on the balance

इस सम्बंध में ग्राम प्रधान से जब पूछा गया तो ग्राम प्रधान ने बताया कि इस सामुदायिक शौचालय का पूरे बजट का भुगतान पूर्व ग्राम प्रधान व सचिव बृजेश शुक्ला ने निकाल लिया है।और जब इस मद में रूपये ही नहीं बचे है तो निर्माण कार्य हम क्यों कराये।शौचालय के सीवर टैंक का कार्य अधूरा पड़ा है तो इसमें हम क्या करें।जबकि ग्राम सचिव महेंद्र कुमार इस सम्बंध में कुछ भी बोलने को तैयार नही हैं।

Hamirpur Due to the neglect of the responsibilities the construction work of community toilet hangs on the balance

गौरतलब है कि कुछ महीने पूर्व जिलाधिकारी ने निर्देश दिए थे कि सामुदायिक शौचालय के निर्माण कार्य में की गई लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी।मगर मुस्करा ब्लाक के अधिकारी लापरवाही करने से बाज नहीं आ रहे है।सवाल यह है कि जब शौचालय का पूरा भुगतान कई महीने पूर्व हो चुका है तो पूरा निर्माण कार्य क्यो नहीं कराया गया और जब शौचालय चालू ही नहीं हुआ तो समूह की महिलाओं का भुगतान किस आधार पर हुआ।इस प्रकार की लापरवाही प्रशासन के अधिकारियों पर एक बड़ा सवालिया निशान जरूर लगा रही है।अब देखना यह होगा प्रशासन सामुदायिक शौचालय के अधूरे पड़े कार्य को कब तक पूरा कर पाता है या फिर यह सामुदायिक शौचालय भेड बकरियां बांधने के काम आता है।

जिला संवाददाता संदीप मिश्रा, हमीरपुर

About Author

admin

You cannot copy content of this page