Banda: SDM threw the ball in the court of the mine officer, section 100/3 is making a dent in the Ken river
एसडीएम ने खान अधिकारी के पाले में फेंकी गेंद, खंड 100/3 लगा रहा केन नदी में सेंध

एसडीएम पैलानी रामकुमार ने बीते 1 जून शिकायकर्ता ऊषा निषाद के पत्र पर खनिज अधिकारी को लिखा पत्र लेकिन कार्यवाही नहीं की गई।

खपटिहाकला मौरम खंड 100/3 के अवैध पुल निर्माण में मेसर्स जेएस इंटर प्राइजेज संचालक विनय कुमार सिंह व बलविंदर सिंह सहित अन्य भी शामिल।

स्थानीय मीडिया प्रबंधन सहित कुछ पत्रकारों की भी मौरम खण्ड संचालन में अहम भूमिका।

पैलानी एसडीएम को उनके सीयूजी व्हाट्सएप नम्बर सहित मोबाइल पर दी गई जानकारी लेकिन राजस्व अधिकारी व मजिस्ट्रेट हैं खान अधिकारी पर निर्भर।

बीते एक साल से क्षेत्र बन चुका अवैध खनन का गढ़ दूसरे तमाम खंडों में खनिज डीड, खनिज एक्ट 1963 की धारा 41-ज और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की कंसर्ट जल/ वायु सहमति की धज्जियां उड़ाई जाती हैं।

कार्यवाही के नाम पर होता ड्रामा कुछ ओवरलोड ट्रक पकड़कर नोटिस देने की होती हैं औपचारिकता ताकि सिस्टम पर सवाल खड़े नहीं हो सकें।

मृत्य शैया पर सिसकती केन नदी को जगह जगह मौरम माफियाओं ने बांध लिया हैं। प्रतिरोध पर ग्रामीणों को मिलती धमकी और प्रशासन को रुपया।

मानक के विपरीत गांव की सड़कों से निकलता हैवी ओवरलोड वाहन ट्रैफिक नियम,आरटीओ और सेलटैक्स तो जैसे ठेकेदारों की सुरक्षा में मुस्तैद हैं।

खनिज सचल दल का पता नहीं और पीवीजेड कैमरा व धर्मकांटा हुआ तमाशबीन।

बाँदा : एसडीएम ने खान अधिकारी के पाले में फेंकी गेंद, खंड 100/3 लगा रहा केन नदी में सेंध
एसडीएम ने खान अधिकारी के पाले में फेंकी गेंद, खंड 100/3 लगा रहा केन नदी में सेंध

तोड़कर तटबंध नदी का मौरम उठान करने लगा,बांधकर जलधारा अवैध खनन करने लगा। रख दिये कानून सारे ताक पर, एसडीएम की नाक पर,केन नदी की छाती में पोकलैंड गरजने लगा। माफिया ऐसा दबंग कि प्रशासन भी मौन हैं, देखकर रुतबा 100/3 का अफसर तक डरने लगा। मीडिया सरकार की परतंत्रता में दब गई,अवैध पुल बनाया और ट्रक नदी में उतरने लगा। गांव की किसानी,जनता का पानी,पशुओं की हरियाली चौपट हुई,हर कानून बेमौत यहां मरने लगा। अवैध खनन के रामराज्य को देखना भी लाजमी हैं,चांदी की सेज पर लाल सोना चलने लगा। बसपा-सपा से दस कदम आगे निकल गयी भाजपा, खनन कारोबार इस तरह पलने लगा। कलम की औकात क्या जो सरकार तक बात पहुंचे,सच्चाई की स्याही का तेज ही जलने लगा। भरम हैं जिनको कि लोग जागेंगे कभी,देख लो नदी का स्वरूप ही बदलने लगा। रक्षक बनाया था जिन्हें आपने उम्मीद से,भक्षक बनकर वही विश्वास को छलने लगा।

बाँदा : एसडीएम ने खान अधिकारी के पाले में फेंकी गेंद, खंड 100/3 लगा रहा केन नदी में सेंध
एसडीएम ने खान अधिकारी के पाले में फेंकी गेंद, खंड 100/3 लगा रहा केन नदी में सेंध

यह मामला बाँदा के पैलानी क्षेत्र की खपटिहाकला मौरम घाट 100/3 से जुड़ा है। आपको बतलाते चले कि इस मौरम खण्ड को ठेकेदार मेसर्स जेएस इंटर प्राइजेज संचालित कर रही हैं। बीते मई माह से शुरू हुआ यह खंड बाँदा के थाना मटौंध क्षेत्र की मरौली खदानों सा बेखौफ हैं। गौरतलब हैं क्षेत्र की सामाजिक कार्यकर्ता ऊषा निषाद ने बीते 1 जून पत्र लिखकर एसडीएम पैलानी को इस बात की शिकायत की है। एसडीएम साहेब ने पत्र लिखकर इसी दिन बाँदा खनिज अधिकारी सुभाष सिंह को कार्यवाही के लिए लिखा है। उधर खनिज अधिकारी कहते हैं यह मजिस्ट्रेट का मामला हैं और पूरी बात गोलमाल करके फोन काट देते हैं। वहीं एसडीएम राजस्व अधिकारी होते हुए मौके पर जाना नहीं चाहते हैं। बड़ी बात है यह फोटो आज सुबह 8 बजे 7 जून के हैं। जब ऊषा निषाद ने एसडीएम के पत्र को हाथ मे लेकर फ़ोटो व वीडियो उक्त अवैध पुल के लिए हैं। काबिलेगौर हैं कि खण्ड 100/3 की तर्ज पर क्षेत्र की एक अन्य खदान भी नदी बांधकर खनन कर रही हैं लेकिन कार्यवाही तो दूर उल्टा मुद्दे को कूड़ादान में डालना कोई एसडीएम पैलानी व खान अधिकारी से सीख सकता हैं। फिलहाल वक्त देखना हैं कि खंड 100/3 का यह अवैध पुल कब तक टूटता हैं ? यदि नहीं टूटा तो समझना लाजमी हैं कि सिस्टम ही इसका खिलाड़ी है।

रिपोर्ट आशीष साग़र दीक्षित

About Author

admin

You cannot copy content of this page