स्थानीय पुलिस ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव से फुरसत होकर कराया कर्फ्यू पालन

Advertisements

बांदा। 83 घंटे के बाद 48 घंटे का शुरू हुआ कोरोना कर्फ्यू का पालन कराने के लिए पंचायत चुनाव से फुरसत हुई पुलिस ने सख्त तेवर अपनाए। मंगलवार को फुटपाथी दुकानदारों के तराजू जब्त कर लिए। बेमतलब घूम रहे लोगों को भी सबक सिखाया। कर्फ्यू की पाबंदी में आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सब कुछ बंद रहा। शहर के प्रमुख धार्मिक स्थलों के गेट भी बंद रहे।

 

जनपद में 83 घंटे का कोरोना कर्फ्यू मंगलवार को सुबह 7 बजे समाप्त होते ही 48 घंटे का आंशिक लॉक शुरू हो गया। मंगलवार को ज्यादातर लोग घरों के अंदर रहे। सब्जी आदि की खरीदारी के लिए निकले तो मास्क पहने रहे। दोपहर होते-होते शहर के प्रमुख चौराहों महेश्वरी देवी चौराहा, बाबूलाल चौराहा, स्टेशन रोड, रोडवेज, अशोक लाट चौराहा, जिला परिषद चौराहा, छावनी रोड इत्यादि में सन्नाटा रहा। प्रमुख धार्मिक स्थलों महेश्वरी देवी मंदिर, काली देवी मंदिर, संकट मोचन मंदिर, ऐतिहासिक नवाबी जामा मसजिद के मुख्य गेट बंद रहे।

रमजान के मुबारक महीने में रोजदारों ने अपने घरों के अंदर ही रोजा और नमाज का एहतेमाम किया। मसजिदें सूनी रहीं। उधर, जनपद के सभी मेडिकल स्टोर, दवाखाने, क्लीनिक आदि खुलीं रहीं। सड़कों में इक्का-दुक्का लोग निकलते रहे।

कोरोना कर्फ्यू के बावजूद नरैनी बाजार में भीड़।
नहीं रहा पाबंदी का असर

नरैनी। क्षेत्र में कोरोना कर्फ्यू का कुछ खास असर नहीं रहा। लोग बेरोकटोक घूमते रहे। बाजार में भी खरीदारों की भीड़ रही। पुलिस गश्त के बाद सड़कों पर सन्नाटा हुआ। दुकानें बंद हो गईं। पुलिस के गुजरने के बाद कई दुकानदार फिर से आधा शटर खोलकर दुकानदारी करते नजर आए।

सौजन्य से : अमर उजाला

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: