हमीरपुर : डग्गामार वाहनों से वसूली करने वाले बने बलि का बकरा

Advertisements

पुलिस की सरपरस्ती में डग्गामार वाहनों से की जाती थी अवैध वसूली

आज पुलिस ने ही इन्हें भेज दिया सलाखों के पीछे

हमीरपुर। डग्गामार वाहन सडकों में आज से नही दौड रहे हैं। वर्षों से यह डग्गामार वाहन सडकों पर भूसे की तरह सवारियां भरकर दौड लगाते रहे हैं और इन्हीं डग्गामार चालकों से पुलिस माहवारी वसूलती चली आई है। माहवारी की दम पर ही डग्गामार चालक बेखौफ होकर सडकों पर ओवरलोड सवारियां भरकर दौडते थे और अब योगी जी ने अवैध टैम्पो स्टैंड संचालन करने वालों पर कडा रुख इख्तियार किया है। योगी जी ने इन डग्गामार वाहनों से वसूली करने वालों पर बडी कार्यवाही किए जाने के निर्देश जारी किए हैं। निर्देश मिलते ही पुलिस प्रसाशन ने आनन फानन में डग्गामार वाहनों से वसूली करने वालों पर कार्यवाही करना शुरू कर दिया है।

हम बात सिर्फ हमीरपुर जिले की करेंगें। हमीरपुर जिले में बडे लम्बे समय से डग्गामार वाहन सडकों पर दौडते चले आए हैं। जिले का ऐसा कोई भी थानाक्षेत्र नही रहा जहां डग्गामार साधनों की भरमार न रही हो। यह डग्गामार वाहन स्थानीय पुलिस की कमाई का एक बेहतरीन जरिया भी बन चुके थे। स्थानीय पुलिस इन वाहनों से हर माह एक अच्छी खासी मोटी रकम वसूल करती थी। यह रकम पुलिस खुद नही वसूलती थी। बल्कि इसे वसूल करने के लिए एक प्राइवेट व्यक्ति को बकायदा ठेका दे दिया जाता था। पुलिस से ठेका मिलने के बाद प्राइवेट व्यक्ति दबंगई से डग्गामार वाहन चालकों से माहवारी वसूल करता था और इसके बाद थाना प्रभारी की जेब तक वह हर माह मोटी रकम पहुंचा देता था। लेकिन अब योगी जी के निर्देशों के बाद वसूली करने वाले ही बलि का बकरा बन गए। अब इन बेचारों पर गैंगस्टर एक्ट की कार्यवाही भी होगी और इनकी सम्पत्ति कुर्क भी कराई जाएगी। कल तक यही पुलिस को डग्गामार वाहनों से रकम वसूल कर देते रहे और आज इन्हीं को पुलिस ने निशाना बना दिया। इसे कहते हैं खाकी पुराने बुजुर्ग सही कहते थे कि पुलिस कभी अपने बाप की नही होती है। आज वो सब देखने और सुनने को मिल रहा है। पुलिस के लिए यही प्राइवेट व्यक्ति कल तक एक खास व्यक्ति हुआ करते थे। यही थाना प्रभारी की आवाभगत किया करते थे। थाने पहुंचने वाले संभ्रांत लोगों व अधिकारीगणों की सेवा बरदाश्त करने की जिम्मेदारी भी इन्हीं प्राइवेट व्यक्तियों की हुआ करती थी लेकिन आज बेचारे यह बुरी तरह फंस गए।

योगी जी के निर्देश आते ही पुलिस ने इन्हें जेल भेजना शुरू कर दिया। पुलिस की यह कार्यवाही यहां के लोगों को हजम नही हो रही है। यहां के लोग कहते हैं कि डग्गामार वाहनो से वसूली करने के लिए पुलिस ने ही इन प्राइवेट व्यक्तियों को लगा रखा था। यह प्राइवेट व्यक्ति पुलिस को माहवारी भी वसूल कर देते थे और जब इन प्राइवेट व्यक्तियों पर कार्यवाही की जा रही है तो फिर पुलिस भी कार्यवाही के दायरे में आती है आखिरकार इन पुलिसकर्मियों पर क्या कार्यवाही होगी, और कब होगी।

आखिरकार लोगों का यह कहना भी सौ टका सही है। जब वसूली करने वालों पर कार्यवाही हो रही है तो फिर इन्हें सरपरस्ती देने वालों भी कार्यवाही होनी चाहिए। कुछ भी हो यह योगी जी के हांथ है फिलहाल जनपद की मौदहा कोतवाली पुलिस ने अवैध टैक्सी संचालन करने वाले दीवान अहमद उर्फ लाला भाऊ व बली मोहम्मद निवासी कम्हरिया के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया है और उनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है।

जबकि सुमेरपुर थाना पुलिस ने टैम्पो स्टैंड संचालन करने वाले इन्द्रजीत पर मुकदमा दर्ज कर लिया है और उसे गिरफ्तार भी कर लिया है।अवैध रूप से टैम्पो स्टैंड संचालन करने और वसूली करने वालों पर गैंगस्टर व सम्पत्ति कुर्की की कार्यवाही होना भी तय हो चुका है।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: